Why Mahabharat war was fought in Kurukshetra जानिये कुरुक्षेत्र में ही क्यों लड़ा गया महाभारत का युद्ध

क्या आप जानते हैं कि महाभारत के महासमर के लिए कुरुक्षेत्र को ही क्यों चुना गया ? …पहले जानते हैं कि उस क्षेत्र को कुरुक्षेत्र क्यों कहते हैं – महाभारत के अनुसार जिस भूमि को भारतवंशी राजा कुरु ने बार-बार जोता वह भूमि कुरुक्षेत्र कहलाई। जब वह  की जुताई कर रहे थे तब देवराज इंद्र ने उनसे इसका कारण पूछा तब राजा ने कहा कि मेरी इच्छा है कि जो भी इस भूमि पर मृत्यु को प्राप्त हो वह पुण्य स्वर्गलोक को प्राप्त हो।  इंद्र उनका उपहास करते हुए वापस चले गए। राजा कुरु बार-बार उस भूमि को जोतते रहे।  अन्ततः देवताओं द्वारा कहने पर देवराज इंद्र ने राजा कुरु को यह वरदान दिया कि कोई भी मनुष्य, पशु, पक्षी निराहार रहकर अथवा युद्ध कर इस भूमि पर मारा जायेगा वह स्वर्गलोक को प्राप्त करेगा। यह बात भीष्म पितामह, कृष्ण आदि जानते थे। अतः इस महायुद्ध के लिए यह स्थान चुना गया।

Mahabharat-kurukshetra-war-kauravas-pandavas-1024x614

कुरुक्षेत्र की महिमा – महाभारत एवं अन्य पुराणों में धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र की महिमा का बखान किया गया है कि सभी लोग यहाँ आकर पापमुक्त हो जाते हैं।  इस स्थान की धूल पापी व्यक्ति को भी परम स्थान दिला देती है।  नारद पुराण में कहा गया है कि तारों का नीचे गिरने का भय है किन्तु जो कुरुक्षेत्र में मरते हैं वे पुनः धरती पर नहीं गिरते अर्थात वे पुनर्जन्म नहीं लेते और इस चक्र से मुक्त हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें – इस राजा ने किया था गर्भ धारण और एक पुत्र को दिया था जन्म 

इस कारण यह कहना गलत नहीं होगा कि इस युद्ध में मारा गया हर एक  योद्धा, चाहे वह अधर्म पक्ष का ही रहा हो, सभी ने स्वर्गलोक प्राप्त कर जन्म मरण के चक्र से मुक्त हुए

कुरुवंश-

राजा कुरु का रानी शुभांगी से विदुरथ नामक पुत्र हुआ।  विदुरथ का पत्नी संप्रिया से अनाश्वा नामक पुत्र हुआ।  अनाश्वा के परीक्षित, परीक्षित के भीमसेन, भीमसेन के प्रतिश्रावा, प्रतिश्रावा के प्रतीप, प्रतीप के शान्तनु, शान्तनु के पत्नी गंगा से देवरथ जो भीष्म कहलाये। वह आजीवन ब्रह्मचारी रहे।  शान्तनु की दूसरी पत्नी से चित्रांगद और विचित्रवीर्य उत्पन्न हुए। चित्रांगद की मृत्यु होगई और विचित्रवीर्य गद्दी पर बैठा।  विचित्रवीर्य का विवाह अम्बिका व अम्बालिका से हुआ जिनसे धृतराष्ट्र व पांडु उत्पन्न हुए।  धृतराष्ट्र के पुत्र कौरव कहलाये और पांडु के पुत्र पाण्डव कहलाये।

यह भी पढ़ें – यह है आयुर्वेद के अनुसार भोजन करने का सही तरीका 

One thought on “Why Mahabharat war was fought in Kurukshetra जानिये कुरुक्षेत्र में ही क्यों लड़ा गया महाभारत का युद्ध

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *